HUSN LYRICS – Anuv Jain

Husn Lyrics

Haan Haan Haan Haan..

Dekho Dekho Kaisi Baatein Yahan Ki
Hai Saath Par Hain Saath Na Bhi
Kya Itni Aasaan Hai

Dekho Dekho Jaise Mere Iraade
Waise Kahan Tere Yahan The
Haan Kitni Naadaan Main

Mere Husn Ke Alawa
Kabhi Dil Bhi Maang Lo Na
Haaye Pal Mein Main Pighal Jaaun Haan

Ab Aisa Na Karo
Ke Dil Judna Paye Wapis
Teri Baaton Se Bikhar Jaaun Haan

Maana Zamaana Hai Deewaana
Isiliye Toone Na Jaana
Tere Liye Main Kaafi Hoon

Dekho Dekho Yeh Zamaane Se Thak Kar
Aate Ho Kyun Masoom Bann Kar
Tere Liye Main Kya Hi Hoon

Aa Aa.. Phir Aate Kyun Yahan
Karne Aankhon Mein Ho Baarish
Ab Aaye Toh Thehar Jao Na

Aur Puchho Na Zara
Mere Din Ke Baare Mein Bhi
Bas Itne Mein Sambhal Jaaun Haan

Haan Ek Din Kabhi Koyi
Jab Bhi Padhe Kahaani Teri
Lagta Mujhe Mere Naam Ka
Zikr Kahin Bhi Hoga Nahi

Aa Aa Haan.. Main Yahin
Meri Yeh Aankhon Mein
Aankhon Mein Toh Dekho

Dekho Yeh Dil Ka Haal Kya
Hothon Se Hota Na Bayaan
Meri Yeh Aankhon Mein
Aankhon Mein Toh Dekho

Kaisa Naseeb Hai Mera
Milke Bhi Na Mujhe Mila
Meri Yeh Aankhon Mein
Aankhon Mein Toh Dekho

Teri Adhoori Si Wafa
Maangu Main Maangu Aur Na
Meri Yeh Aankhon Mein
Aankhon Mein Toh Dekho

Dekho Dekho Kaisi Kheenchi Lakeerein
Chahe Bhi Dil Toh Bhi Na Jeete
Main Iss Daud Mein Nahi

Dekho Dekho Kaisi Baatein Yahan Ki
Baatein Yahi Dekhun Jahan Bhi
Main Iss Daur Se Nahi

Written by:
Anuv Jain

हुस्न Lyrics In Hindi

हाँ हाँ हाँ हाँ..

देखो देखो कैसी बातें यहाँ की
है साथ पर है साथ न भी
क्या इतनी आसान है

देखो देखो जैसे मेरे इरादे
वैसे कहाँ तेरे यहाँ थे
हाँ कितनी नादान मैं

मेरे हुस्न के अलावा
कभी दिल भी माँग लो ना
हाय पल में मैं पिघल जाऊँ हाँ

अब ऐसा न करो
के दिल जुड़ना पाए वापिस
तेरी बातों से बिखर जाऊँ हाँ

माना ज़माना है दीवाना
इसीलिए तूने ना जाना
तेरे लिए मैं काफी हूँ

देखो देखो ये ज़माने से थक कर
आते हो क्यों मासूम बन कर
तेरे लिए मैं क्या ही हूँ

आ आ.. फिर आते क्यों यहाँ
करने आँखों में हो बारिश
अब आए तो ठहर जाओ न

और पूछो न ज़रा
मेरे दिन के बारे में भी
बस इतने में संभल जाऊँ हाँ

हाँ एक दिन कभी कोई
जब भी पढ़े कहानी तेरी
लगता मुझे मेरे नाम का
ज़िक्र कहीं भी होगा नहीं

आ आ हाँ.. मैं यहीं
मेरी ये आँखों में
आँखों में तो देखो

देखो ये दिल का हाल क्या
होठों से होता न बयान
मेरी ये आँखों में
आँखों में तो देखो

कैसा नसीब है मेरा
मिलके भी ना मुझे मिला
मेरी ये आँखों में
आँखों में तो देखो

तेरी अधूरी सी वफा
माँगूँ मैं माँगूँ और ना
मेरी ये आँखों में
आँखों में तो देखो

देखो देखो कैसी खींची लकीरें
चाहे भी दिल तो भी न जीते
मैं इस दौड़ में नहीं

देखो देखो कैसी बातें यहाँ की
बातें यही देखूँ जहाँ भी
मैं इस दौर से नहीं

गीतकार:
Anuv Jain

Leave a Comment