KASHMIR LYRICS – Animal | Vishal Mishra

Kashmir Lyrics

Urdu Ke Jaisa Yeh Ishq Mera
Naa Samajh Tu Samjhega Kaise

Likhti Main Rehti Hoon
Din Raat Tujhko
Paagal Tu Samjhega Kaise

Itna Hai Shor Yahan
Iss Shehar Mein
Ishq Mera Sambhalega Kaise

Kashmir Jaisi Jagah Le Chalo Na
Barf Pe Sikhungi Pyar Tujhe
Jheelon Pe Aise Udenge Saath Dono
Ishq Padhaungi Yaar Tujhe

Hmm.. Thandi Si Raatein Pedon Ki Khushbu
Jugnu Bhi Karte Hain Baatein Wahan
Kehte Hain Jannat Ki Basti Hai Wahan Pe
Saare Farishte Rehte Hain Jahan

Baadal Bhi Rehte Hai Aise Wahan Pe
Sach Mein Woh Neele Ho Jaise

Uss Neele Rang Se Mujhe Bhi Rang Do Na
Aasmaan Dikhanungi Yaar Tujhe
Aise Udenge Milke Saath Dono
Jannatein Ghumaungi Yaar Tujhe

Le Toh Chalun Main Tujhko Wahan Pe
Lekin Wahan Pe Sardi Badi Hai
Kab Main Lagaunga Tujhko Gale
Khuda Ki Qasam Mujhe Jaldi Badi Hai

Odhungi Aise Main Tujhko Piya
Sardi Mujhko Satayegi Kaise
Tujhko Lagaungi Aise Gale
Koyi Gumm Ho Jaata Hai Jaise

Kis Baat Ki Der Phir Tu Lagaye Hai
Khud Ko Ab Rokun Main Kaise
Us Neele Paani Ka Chau Saaf Jharna Hai
Usse Pilaunga Pyar Tujhe

Jheelein Hain Nadiyan
Yeh Barfon Ke Teele
Laake Sab De Doon
Main Yaar Tujhe

Hmm Hmm…

Written by:
Manan Bhardwaj

कश्मीर Lyrics In Hindi

उर्दू के जैसा ये इश्क़ मेरा
ना समझ तू समझेगा कैसे

लिखती मैं रहती हूँ
दिन रात तुझको
पागल तू समझेगा कैसे

इतना है शोर यहाँ
इस शहर में
इश्क़ मेरा सम्भलेगा कैसे

कश्मीर जैसी जगह ले चलो न
बर्फ़ पे सिखाऊँगी प्यार तुझे
झीलों पे ऐसे उड़ेंगे साथ दोनों
इश्क़ पढ़ाऊँगी यार तुझे

Hmm.. ठंडी सी रातें पेड़ों की खुशबू
जुगनू भी करते हैं बातें वहाँ
कहते हैं जन्नत की बस्ती है वहाँ पे
सारे फ़रिश्ते रहते हैं जहाँ

बादल भी रहते हैं ऐसे वहाँ पे
सच में वो नीले हो जैसे

उस नीले रंग से मुझे भी रंग दो ना
आसमान दिखाऊँगी यार तुझे
ऐसे उड़ेंगे मिलके साथ दोनों
जन्नतें घुमाऊँगी यार तुझे

ले तो चलूँ मैं तुझको वहाँ पे
लेकिन वहाँ पे सर्दी बड़ी है
कब मैं लगाऊँगा तुझको गले
खुदा की कसम मुझे जल्दी बड़ी है

ओढ़ूंगी ऐसे मैं तुझको पिया
सर्दी मुझको सताएगी कैसे
तुझको लगाऊँगी ऐसे गले
कोई गुम हो जाता है जैसे

किस बात की देर फिर तू लगाए हैं
खुद को अब रोकूँ मैं कैसे
उस नीले पानी का चौ साफ़ झरना है
उससे पिलाऊँगा प्यार तुझे

झीलें हैं नदियाँ
ये बर्फ़ों के टीले
लाके सब दे दूँ
मैं यार तुझे

Hmm Hmm…

गीतकार:
Manan Bhardwaj

Leave a Comment